महाशिवरात्री के उपलक्ष मे शिवध्वजारोहण

 ईश्वर  एक  है उस का नामं  नाव शिव  है | उस   निराकार  शिव के  अवतरण के उपलक्ष में   महाशिवरात्री  महोत्सव  मनाया  जाता है| शंकर  सूक्ष्मधारी  देवता  है|   शिव   परमात्मा  है |

इसलिये हम आज के  उत्सव को  शंकररात्री  न  कहते हुए  शिवरात्री  कहते है |

      शिव परमात्मा हमे  अवगुणों का उपवास अर्थात त्याग  करने को     सिखाते है |  दैवी  गुण  धारण  करने से जीवन  सुखी  शांति से भरपूर बन जायेगा तथा   भारत भी  सुखधाम  स्वर्ग  बन जायेगा |

विधायक  राजाभाऊ  राऊत

           ‘आज  जगत  को शांति की आवश्यकता है |  . योग साधना के द्वारा मन  को शांतति  मिलती  है |        कार्यक्रमशृंखला मे  सात   मिनिट के  गाइडेड  मेडिटेशन  मधील  अनुभूतीं के   बारे  मे  अपना अनुभव  कथन  कर  रहे  थे |  उन्होने  आगे कहा,   ‘ जो  अभी यहा पर गाइडेड  मेडिटेशन  मे  सिखया  उसी  तरह  हररोज  पाच मिनीट  शांती का अभ्यास करना  यह मेरी  सुबह  की  दिनचर्या  का  अंग  है|   .  आज के अस्थिर  जग मे  मन को स्थिर  करने  के लिये  ब्रहमाकुमारी  विद्यालय का   राजयोग के द्वारा शांतीदान का कार्य महत्वपूर्ण  है|   जगत मे हर  व्यक्ति  अपने अपने कारोबार  मे व्यस्त  है |  लेकिन.  इस  व्यसतता  का  अंत  हमे ब्रहमाकुमारी  विद्यालय मे   आकर  ही  करना  होंगा |    क्योंकी   ब्रहमाकुमारी  विद्यालय मे   ही   राजयोग के  द्वारा  मन  शांत  व  स्थिर  हो  सकता   है |   जागतिक  स्तर  चल  रहा  विद्यालय  का कार्य  संगीतबहनजीं के  नेतृत्व  मे  बार्शी   तहसील  मे बहुत  ही अच्छी  तरह  से.चल  रहा  है |  मै  उन  को  दिल  से   बहुत  बहुत धन्यवाद देता  हूं   |

—————————————————————————————————

  सभी  ने  यही  विचार  रखा   की  तनाव मुक्त   जीवन  के  लिये  राजयोग  का  अभ्यास   बहुत  लाभकारी    है |   यहा   आकर      शांति  का   सच्चा  औऱ  गहरा  अनुभव  होता  है  |

      शिवरात्री  अभी  तक  परंपरा  के  रूप  मे मनाते आये  लेकिन  शिवरात्री  का वास्तविक  रहस्य आज  यहा आकर  मालूम  हुआ|

      विधायक के  रूप मे  निर्वाचन  के  बाद  प्रथम  बार  सेवाकेंद्र  पर  पधारे विधायक राजाभाऊ  राऊत जी का ‘ मुश्किलों  को  प्रभू  अर्पण  कर  दो   तो  हर  मुश्किल   सहज  हो जाएंगी   ‘  यह ईश्वरीय महावाक्य का  फलक देकर  एवं  शाल  उडाकार   सम्मान किया गया|

.   लायन्स  क्लब  बार्शी रॉयल के  अध्यक्ष/ अध्यक्षा  संतोष  गुळमिरे  व  सोनल गुळमिरे इन का भी   लक्ष्मी नारायण  फ्रेम  देकर एवं  शाल  उडाकार   सम्मान किया  गया |

      सभी    अतिथियो को  ईश्वरीय  सौगात  एवं  प्रसाद  देकर  सम्मानित किया  गया|

  ब्र. कु.  अनिताबहन  करवा ने  सात   मिनिट  ओम  ध्वनि, क्रोधमुक्ति के  संकल्प के  साथ  गाइडेड  मेडिटेशन   के  द्वारा  कराई  शांति  की  गहन अनुभूति  बहुत  ही  प्रभावशाली  रही